Click to Download this video!

चुदाई की तलब -1

Chudai ki talab 1:

sex stories in hindi, desi porn stories

गुड इवनिंग लेडीज एंड जेंटलमेन | आज मेरी ऑटो बायोग्राफी आज रिलीज़ होने जा रही है मतलब मेरी आत्मकथा | आज मेरे बहुत दोस्त पंकज जिसको मैंने अपनी आत्मकथा लिखने के लिए कहा तो उसने मेरा नाम ऐसे जन के साथ जोड़ दिया जिससे मेरा दूर दूर तक कोई रिश्ता नहीं था | ये बायोग्राफी मैं तब पढ़ रहा था जब मैं टट्टी में था | मेरा माथा तनक गया | अपुन बोला साला ये तो लोचा कर दिया | मैं नहा धो कर नीचे आया और मैंने उस भोसड़ी वाले को खूब मारा | तभी मेरी लुगाई ने टीवी चालू कर दी और उसमे मेरे जेल जाने की ख़बर आने लगी | अरे बोले तो बाप अपने तो लौड़े लग गए | मन में तो आया कि साला मर जाऊं फिर मन में आया कि अगर मर गया तो साले सब मुझे गलत समझेंगे | पहली बार मैंने चुदाई तब किया था जब मैं अपने बाप से बहुत नाराज था | दूसरी बार चुदाई तब किया जब मुझे चुदाई की बहुत तलब लगने लगी थी | और तीसरी बार चुदाई मैंने तब किया जब मैं चुदाई का आदि हो गया था | तो अब मैं आगे बढ़ता हूँ और कहानी शुरू करता हूँ |

मेरी बीवी बोले तो मस्त है बोले तो मेरा हरदम साथ दी है उसने | मेरी बीवी मुझसे बोली कि किसी अच्छी राइटर को ढूंढो जो तुम्हारे बारे में सब कुछ सही सही छाप सके और ऐसे झांतु लोगो के पल्ले मत पड़ा पड़ो | मैंने कहा ठीक है तू बोलती है तो मैं ऐसा ही करूँगा | मेरी लुगाई ने एक लड़की से बात की और मेरी और उसकी मिलने की सेटिंग की | अपुन उसके पास जा रहा था तभी मेरी लुगाई का फ़ोन आ गया और उसने मुझसे कहा कि तुम वहां जा कर लंड चूत की बात मत करना | सीधे मुद्दे की बात करना वो बहुत बड़ी रंडी है | मैंने कहा ठीक है | अब मैं वहां पर पंहुचा और उसे कॉफ़ी के लिए पुछा तो उसने कहा नहीं मैं रात में लेती हूँ अभी नहीं | मैंने कहा ठीक है | उसके बाद मैंने उससे कहा की तू मेरी बायोग्राफी लिख | तो उसने कहा कि मैं क्यूँ लिखूं तू ऐसा मदर्चोदी पना किया है | मैंने कहा कि तुम एक बार मुझे आजमा के तो देखो तब तुम्हे पता चलेगा कि मैं ऐसा कैसे हुआ | बस आधा घंटा ही सुन लेना | उसने कहा ठीक है मैं आती हूँ तेरे घर कल | मैंने कहा ठीक है | अगले दिन जब वो कहीं घूम रही थी तभी उसे मेरा कोई पुराना दोस्त मिला होगा जो कि मेरा दुश्मन बन चुका है | जब वो मेरे घर आई तो मैंने उसे बैठाया | उसने आते ही मुझसे पुछा कि तुम किसी पद्द्दु को जानते हो ? मैंने कहा हाँ | उसने फिर एक सवाल पूछ ली कि आज तक तुमने कितनो को चोदा है | तो मैंने उसे बताया कि 200 लड़किओं की चूत मारा है और 150 लड़किओं की गांड चोदा है | ये सुन कर वो मुस्कुराने लगी | उसे यकीन हो गया कि मैं सच में वैसा नहीं हूँ जैसा वो मुझे समझ रही थी |

मैंने एक स्टॉप वाच निकाला और टाइमर सेट कर दिया | मैंने उसे कहानी बताना चालू किया – ये बात उस समय की है जब मैं अपने बाप के साथ एक होटल में गया हुआ था खाना खाने | वहां पर पापा के दोस्त के सामने मैं थोडा अजीब फील कर रहा था | तभी एक दम से मुझसे  उनके दोस्त की बेटी के ऊपर खाना गिर गया तो पापा ने मुझे चिल्ला दिया | मुझे बहुत गुस्सा आया | मैं बोला कुछ नहीं बस रात के समय दारू पीने बार चला गया | रात के करीब 8 बज रहे होंगे कि वहां पर मेरा दोस्त पद्द्दु आ गया | मैंने उससे हाँथ मिलाया और कहा और भाई कैसा है ? उसने कहा अबे तू क्या बच्चो वाली हरकत कर रहा है चल मैं तुझे असली जन्नत दिखता हूँ | मैंने कहा चल | वो मुझे एक कोठे में ले कर गया और कहा यहाँ पर जो छमिया तुझे अच्छी लगे उसको उठा के चोद ले | मैंने कहा ठीक है | एक रंडी थी मैं उसके पास गया और कहा मुझसे चुदेगी ? उसने कहा हाँ चल | फिर मैं उसे एक रूम में ले कर गया और वहां पर मैं उसे ले जाते ही नंगी कर दिया और पूरे कपड़े फाड़ दिया | उसने कहा अबे मादरचोद अब क्या मैं नंगी ही रहूंगी ? मैंने कहा हाँ छिनार अब तू नंगी ही रहेगी | उसके बाद मैंने उसके होंठ पर किस करने लगा और वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को चोसने लगी |

मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसके दूध को भी दबा रहा था और वो भी मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे लंड को ऊपर से ही सहला रही थी | हम दोनों ने करीब 15 मिनट तक किस किया | उसके बाद मैंने उसके दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और दूसरे को दबाने लगा तो उसके मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा उन्ह उमह की सिस्कारियां निकलने लगी | फिर मैं उसके दूसरे दूध को चूसने लगा और पहले दूध को दबाने लगा तो वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा उन्ह उमह करते हुए मेरे गालो सहलाने लगी | फिर मैंने उसके दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा उन्ह उमह सिसकियाँ भरते हुए गरम होने लगी | मैंने उसके दूध को 20 मिनट तक चूसा | उसके बाद मैंने भी अपने कपड़े उतार दिया और मेरा लंड उसके सामने था | वो नीचे झुकी और मेरे लंड को अपनी जीभ से चाट कर गीला करने लगी तो मेरे मुंह से भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा उन्ह उमह की सिस्कैर्याँ निकलने लगी | वो मेरे लंड को मजे से चाट कर गीला कर रही थी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा उन्ह उमह करते हुए उसके सिर पर हाँथ फेर रहा था | उसके बाद उसने मेरे लंड को अपने मुंह में ले ली और चूसने लगी आगे पीछे करते हुए और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा उन्ह उमह करते हुए उसके मुंह को चोदने लगा | वो जोर जोर से मेरे लंड को चूस रही थी और मेरे अन्टोलो को भी सहला रही थी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा उन्ह उमह करते हुए सिस्कैर्याँ ले रहा था | फिर उसने मेरे अन्टोलो को अपने मुंह में भर कर चूसने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा उन्ह उमह करते हुए उसके मुंह पर लंड पटकने लगा | मैं कभी किसी रंडी की चूत नहीं चाटता इसीलिए मैंने उसे लेटा दिया और उसकी टांगे फैला कर अपने लंड को उसकी चूत में पेल दिया और चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा उन्ह उमह करते हुए चुदाई के मजे रही थी | मैं जोर जोर से उसकी चूत चोद रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा उन्ह उमह करते हुए अपनी कमर उठा उठा कर चुदाई में भरपूर साथ दे रही थी | फिर मैंने उसे कुतिया बना दिया और अपने लंड को पीछे से उसकी चूत में घुसेड दिया और चोदने लगा धक्के लगाते हुए और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा उन्ह उमह करते हुए अपनी कमर हिला हिला कर चुदवा रही थी |

करीब आधे घंटे तक की चुदाई के बाद मैंने माल उसकी चूत में ही छोड़ दिया | जब मैं वहां से निकला तब पद्द्दु ने कहा भाई दारू पीने का बहुत मन कर रहा है | मैंने कहा अबे तू रुक मैं अभी ले कर आता हूँ | जब मैंने कार की डिक्की खोला तो बहनचोद कुछ भी नहीं था उसमे | पूरे दिमाग की माँ बहन चुद चुकी थी | तभी मेरे दिमाग की बत्ती जली अपुन को याद आया कि मेरी बटेर का बाप भी तो साला बेवडा है | मैंने अपनी बटेर को फ़ोन किया और कहा कि अपने बाप से बोल अपुन आ रहा है बात करने को | उस समय रात के 12 बज रहे थे | जब मैं उसके घर गया तो सब ऐसे खड़े थे जैसे मैं उसकी लड़की चोदने आया हूँ पर मैं तो बोतल लेने गया था | बहनचोद ने मुझे वहां से भगा दिया | अब साला रात को मेरा ज्यादा माल तेज हो गया था तो मैं सुबह घर पंहुचा | बाप ने पुछा कहाँ था रात भर ? मैंने कहा कहीं नहीं अभी सो कर उठा हूँ | बाप जनता था कि मैं झूट बोल रहा हूँ पर फिर भी उसने मुझे कुछ नहीं कहा | फिर मुझे कुछ दिन के लिए अपने घर वालो के साथ अमेरिका जाना पड़ा | वहां पर मैं रंडी तो ले जा नहीं सकता था क्यूंकि यहाँ से मैं रंडी ले जाता तो मैं तो फंसता ही फंसता साथ में मेरे घर वाले भी फंसते इसलिए मैं नहीं ले कर गया | उसके बाद जब मैं वहां पंहुचा तो मेरी पहचान एक और लौंडे से हुई जिसका नाम बबलू पंडा था |


Comments are closed.


error:

Online porn video at mobile phone


www antarvasna story comहिंदी सेक्स स्टोरी संगीता के चुत मरी मुस्लमान नेxxx hindi kahniyachachi ki jawanimuslim chutchudai ki kahani bestsuhagrat ki sachi kahanireal indian chudaikuwari chut ki nangi photochoot main lodarupali sexdidi ki chudayibeti ki chut storyrajasthani bhabichudai ki story with photochori chori sexmausi ki chut ki kahanidesi ladkiyaanuty fuckmausi ki ladki ki chudai kahanihindi maid pornhindi story bhabhi ki chudaiantarvadsna videobank me chudaisex kavitadevar and bhabhi ki chudaidewar bhabhi sexchudai ka shauksexykahaniwithimagepunjabi suhagraatdidi ki chudayiwww desi chut comromantic chudai kahaniland boor ki chudaiaunty desi kahanikamwali se sexdada ne gand marichudai all storybhai behan ki chudai hindi storiesrandi mummymaa beta ki chudai sex storyboor ki chudai in hindiantarvasna hd videobehan chudai storyindian baap beti ki chudaichudai ki kahani ladki kimeri chudai ki kahani meri jubanido lund ek chutpdf chudai storymastram ki hindi storymaa ki chudai hindistudent teacher chudaichut ka chaskahindi chudai story hindi fontsadu sexdesi choot lundgori gand ki chudaiaslil kahaniyachoot storydada g ne chodamegha ki chudaimeri samuhik chudaibhabhi ki chudai sexantarvasna kahani in hindiaunty bhabhi ki choot chudaipregnant ki chudaigharelu chudai storydevar aur bhabhi ka sexnangi mummybhabhi ki gand chudai storybhabhi ki chut ka panihindi chudai ki kahani in hindihindi chudai pictureindian hindi sex story comdidi ko chudte dekhaland chut ki khaniyachudail ki chudaichut aur lund ki photohindi sambhog kahaniyasexy choot commaa aur beti ki chudaimeri kunwari chut ki chudaimeri chut ki chudaibehan ko choda story in hindimami ki beti ki chudaidadi sex storybhabhi chudai hindimummy chudi